Monday , November 7 2022

बने शुभमयूपीएससी टॉपर

नई दिल्ली : बिहार के कटिहार निवासी शुभम कुमार ने देश की प्रतिष्ठित सिविल सर्विसेज परीक्षा 2020 में शीर्ष स्थान हासिल किया है। शुभम ने इसके पहले वर्ष 2019 की परीक्षा में 290वीं रैंक हासिल की थी।

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने परीक्षा परिणाम शुक्रवार को जारी किया। शुभम ने आईआईटी मुंबई से पढ़ाई की है। वे कटिहार के कदवा प्रखंड के कुम्हरी गांव के रहने वाले हैं। इनके अलावा बिहार के कई छात्रों ने शानदार प्रदर्शन किया है। जमुई के चकाई निवासी प्रवीण को सातवीं रैंक मिली है।

आईआईटी कानपुर से पासआउट जमुई के प्रवीण 2018 में भारतीय रेल सेवा के लिए चुने गए थे। अभी वड़ोदरा में उनकी ट्रेनिंग चल रही है। प्रवीण के पिता सीताराम वर्णवाल दवा की दुकान चलाते हैं। प्रवीण ने जसीडीह के रामकृष्ण मिशन से प्रारंभिक शिक्षा हासिल की है। मैट्रिक और इंटर सीबीएसई से करने के बाद आईआईटी कानपुर से इंजीनियरिंग की। सिविल सेवा में दूसरे प्रयास में सफलता मिली है।

 

इससे पहले वर्ष 2000 में ऑलोक झा टॉपर बने थे। वहीं, 1997 में गया के सुनील कुमार बरनवाल ने शीर्ष स्थान प्राप्त किया था। 1987 में आमिर सुबहानी टॉप किये थे। जो अभी बिहार के विकास आयुक्त हैं। अभी तक बिहार के चार मेधावियों ने यूपीएससी में शीर्ष स्थान हासिल किया है। वर्ष 2020 में जागृति अवस्थी और अंकिता जैन ने क्रमश: दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया था।

इस परीक्षा में कुल 761 उम्मीदवार उत्तीर्ण हुए हैं। इनमें 545 पुरुष और 216 महिला अभ्यर्थी हैं। सिविल सर्विसेज परीक्षाओं का आयोजन प्रति वर्ष यूपीएससी तीन चरणों में करता है, जिनमें प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार शामिल हैं। इन परीक्षाओं के माध्यम से भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस), भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) और भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) सहित कई अन्य सेवाओं के लिए उम्मीदवारों का चयन होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 + 1 =