Saturday , August 27 2022

भारत के 10 जगहें अक्टूबर में घूमने के लिए बेस्ट

अक्टूबर की शुरुआत से ही हल्की-हल्की सर्दियां दस्तक देना शुरू कर देती हैं. ऐसे में यह समय भारत के पर्यटक स्थलों की यात्रा के लिए सबसे बेस्ट है क्योंकि न तो ज्यादा गर्मी होती है और न ही ज्यादा सर्दी. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल होता है कि घूमने कहां जाएं. इसलिए आज हम आपको उन 10 जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं जो अक्टूबर में घूमने जाने के लिए बेस्ट हैं.

अरुणाचल प्रदेश का जीरो एक खूबसूरत पहाड़ी पर्यटन स्थल है, जो अक्टूबर महीने में अपने सबसे सुंदर रूप में होता है. ये शहर अपा तानी जनजाति, देवदार की पहाड़ियों और चावल के खेतों के लिए प्रसिद्ध है. ट्रैवलर्स अक्टूबर में घूमने के लिए इसे भारत की सबसे अच्छी जगहों में से एक मानते हैं, जो अपनी अद्भुद और मनमोहनीय सुन्दरता के लिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई है.

स्पीति घाटी एक कोल्ड डेजर्ट माउंटेन वैली है, जो हिमालय की ऊंचाईयों में भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य के पूर्वोत्तरी भाग में स्थित है. यह जगह ट्रेकर्स और हाइकर्स के लिए स्वर्ग के सामान है. ये एरिया काफी ऊंचा और मुश्किलों भरा है. लाहौल और स्पीति दोनों जिले में ही घाटियां शामिल हैं, जिन्हें कुंजुम दर्रे द्वारा अलग किया गया है. इसमें स्पीति नदी बहती है. स्पीति घाटी का प्रशासनिक मुख्यालय काजा है, जो स्पीति नदी के किनारे (3,800 मीटर (12,500 फुट) की ऊंचाई पर बसा हुआ है. स्पीति घाटी के मुख्य आकर्षण है चंद्रताल झील, पिन वैली नेशनल पार्क, काई मठ, कुंजुम दर्रा और सूरज ताल है.

शिमला उत्तर भारत के सबसे लोकप्रिय हिल स्टेशनों में से एक है जो हिमाचल प्रदेश की राजधानी है. 2200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, शिमला अपनी प्राकृतिक सुंदरता और वातावरण की वजह से किसी भी पर्यटक को दोबारा यहां आने पर मजबूर कर देता है. कालका से शिमला के लिए चलने वाली टॉय ट्रेन यहां की कई खूबसूरत पहाड़ियों और घाटियों से होकर गुजरती है, जिसमें यात्रा करना आपके लिए बेहद यादगार साबित हो सकता है. इस रेल मार्ग को दुनिया के सबसे खूबसूरत ट्रेन मार्गों में से एक कहा जाता है. अक्टूबर के महीने में शिमला का मौसम काफी सुहावना होता है जो बर्फबारी का अनुभव करने और बर्फ से ढके रहने के लिए फेमस है.

लाचेन सिक्किम का एक छोटा-सा खूबसूरत कस्बा है. यहां की सैर आपको पूरी तरह से रोमांचित कर देगी. लाचेन एक शानदार जगह है, जो चारों तरफ से बर्फीली पहाड़ी घाटियों से घिरा हुआ है. गंगटोक से लगभग 129 किमी दूरी पर लाचेन 2750 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. लाचेन की जनसंख्या बहुत कम है. सब को मिलाकर यह 1000 के आसपास पहुंचती है. अक्टूबर में कुछ नया अनुभव करने के लिए ये जगह सही रहेगी. यहां की प्राकृतिक खूबसूरती टूरिस्टों को आकर्षित करती है. आप लाचेन में थांगु घाटी, चोपता घाटी, लाचेन मठ और गुरुडोंगमर लेक को जरूर देखें.

पश्चिम बंगाल का डुवर्स अक्टूबर में घूमने के लिए बेस्ट है. ये एक खूबसूरत और अनछुई जगह है जिसे पूर्वोत्तर भारत का प्रवेशद्वार भी कहा जाता है. ये जगह अपनी समृद्ध बायोडायवर्सिटी और जंगलों के लिए भी फेमस है. यहां आपको दूर-दूर तक जंगल ही जंगल नजर आएंगे. यहां आप अपने वीकेंड आराम से गुजार सकते हैं. गोरुमारा नेशनल पार्क, बक्सा टाइगर रिजर्व, जलदापाड़ा वाइल्ड लाइफ यहां के खास टूरिस्ट आकर्षणों में गिने जाते हैं.

लोनावला दो प्रमुख शहरों पुणे और मुंबई के बीच स्थित है. मुंबई के ज्यादातर लोग अपना वीकेंड मनाने वहीं जाते हैं. अक्टूबर के महीने में यहां के पहाड़ हरे-भरे लगने लगते हैं. टूरिस्ट इस नजारे का भरपूर आनंद लेने के लिए दूर-दूर से आते हैं. ड्यूक्स नोज पहाड़ की चोटी से खंडाला और भोर घाट के सुन्दर नजारों का आनन्द लिया जा सकता है. आप यहां ट्रेकिंग और कैंपिंग जैसे एडवेंचर का भी मजा ले सकते हैं.

 

कुन्नूर एक ऐसा हिल स्टोशन है जो यहां आने वाले पर्यटकों के मानस पटल पर अमिट छाप छोड़ जाता है. कुन्नूर, तमिलनाडु के सबसे हरे-भरे पहाड़ों के लिए फेमस है. कुन्नूर इतनी शांत जगह है कि यात्रियों की चहल-पहल और शोलगुल के बावजूद इस स्थान की शान्ति भंग नहीं होत. इसीलिए इसे कभी न सोने वाली घाटी के नाम से नवाजा गया है. कुन्नूर की कोई भी यात्रा नीलगिरि की पहाड़ी रेल रास्ते पर सवारी किए बिना अधूरी है. रेलगाड़ी मेट्टूपलयम से शुरू होकर कुन्नूर की पहाड़ी पर चढ़ाई करती है और फिर ऊटी चली जाती है. रास्ते में पड़ने वाले शानदार प्राकृतिक दृश्य यात्रियों को मन्त्रमुग्ध कर देते हैं. पर्यटकों को सिम्स पार्क, डॉल्फिन नोज, दुर्ग फोर्ट, लैम्ब्स रॉक, हिडेन वैली, कटारी फाल्स और सेन्ट जॉर्ज चर्च स्थानों को देखना नहीं भीलना चाहिए क्योंकि यही कुन्नूर के सबसे प्रमुख पर्यटक स्थल हैं.

समुद्र तल से 1,491 मीटर की उचाई पर स्थित शिलांग मेघालय की राजधानी और एक फेमस हिल्स स्टेशन स्टेशन है. यह देश का ऐसा पहला ऐसा हिल स्टेशन हैं जहां चारों तरफ से जा सकते हैं. शिलांग अक्टूबर में जाने के लिए बहुत अच्छी जगह है. शिलांग हिल स्टेशन को बादलो का निवास और अपनी रमणीय पहाड़ियों के कारण इसे ‘पूर्व का स्कॉटलेंड’ भी कहा जाता है. इसका सबसे उच्तम बिंदु 6,449 फीट उंचा हैं. शिलांग वो जगह है जहां रोड ट्रिप की जानी चाहिए. चारों तरफ पहाड़ ही पहाड़ हैं. शिलांग ऐसी जगह है जहाँ ज्यादा पैदल नहीं चलना होता. इस जगह पर आने के बाद आप हर जगह को भूल जाएंगे.

नैनीताल भारत के उत्तराखंड राज्य के नैनीताल जिले में स्थित एक नगर और महत्वपूर्ण पर्यटक स्थल है. यह जिले का मुख्यालय भी है. अक्टूबर में नैनीताल अपनी फिजाओं में होता है. ये हिमालय की कुमाऊं पहाड़ियों की तलहटी में स्थित है, जिसकी समुद्र तल से ऊंचाई लगभग 1938 मीटर (6358 फुट) है. नैनीताल को भारत का लेक डिस्ट्रिक्ट कहा जाता है क्योंकि ये पूरी जगह झीलों से घिरी हुई है. झीलों का शहर नैनीताल उत्तराखंड के सबसे फेमस जगहों में से एक है.

बिनसर उत्तराखंड में अल्मोड़ा से लगभग 25 किलोमीटर दूर है. यहां की पहाड़ियां झांदी धार के रूप में जानी जाती हैं. यहां आप वाइल्ड लाइफ सफारी का लुफ्त उठा सकते हैं. बिनसर जाने का सबसे सस्ता तरीका बस है. हालांकि यहां जाने के लिए कोई सीधी बस नहीं है. आपको नैनीताल और अल्मोड़ा से बदलनी होगी. बिनसर से हिमालय की केदारनाथ, चौखंबा, त्रिशूल, नंदा देवी, नंदाकोट और पंचोली चोटियों की 300 किलोमीटर लंबी शृंखला दिखाई देती है, जो अपने आप में अद्भुत है और ये बिनसर का सबसे बड़ा आकर्षण भी हैं.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

1 × 5 =