Sunday , August 28 2022

पाकिस्तान साजिश से मारा गया था हैबतुल्लाह अखुंदजादा

नई दिल्ली. कई महीने तक चले रहस्यमयी माहौल के बाद अब तालिबान ने कंफर्म कर दिया है कि उसका सुप्रीम लीडर हैबतुल्लाह अखुंदजादा मारा जा चुका है. 2016 से तालिबान का मुखिया रहा अखुंदजादा 2020 में पाकिस्तान में एक आत्मघाती हमले में मारा गया था.

एक सीनियर तालिबान नेता आमिर-अल-मुमिनिन ने कहा है कि हैबतुल्लाह अखुंदजादा पाकिस्तानी सेनाओं द्वारा समर्थित आत्मघाती हमले में ‘शहीद’ हो गया था. बता दें कि अखुंदजादा पाकिस्तान के कब्जे में है या फिर उसकी सेनाओं द्वारा मार दिया गया है.

 

दरअसल अगस्त महीने में अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से ही अखुंदजादा को लेकर कयासबाजी की जा रही है. लेकिन तालिबान की तरफ से लगातार कहा गया है कि अखुदंजादा जिंदा है और जल्द ही सार्वजनिक रूप से सामने आएगा. वास्तविकता में हैबतुल्लाह अखुंदजादा आज तक कभी भी लोगों के सामने नहीं आया. वह पर्दे के पीछे रहकर ही ऑपरेट करता रहा है. न्यू यॉर्क पोस्ट के होली मैक काय के मुताबिक अखुंदजादा की जो तस्वीर इंटरनेट पर है वो भी वर्षों पुरानी है.

अब जबकि अफगानिस्तान में तालिबान का शासन आ चुका है तो लोग उसकी सार्वजनिक मौजूदगी का इंतजार कर रहे थे. लेकिन जब ऐसा नहीं हुआ था अफवाहों का दौर शुरू हो गया. अफवाहें तालिबान नेताओं के बीच भी चलने लगीं कि क्या अखुंदजादा जिंदा नहीं है?

साल 2016 में अमेरिका ने एक ड्रोन हमले में तालिबान के प्रमुख अख्तर मंसूर को मार गिराया था. इसके बाद अखुंदज़ादा को मंसूर का उत्तराधिकारी बनाने का ऐलान किया गया. अखुंदज़ादा कंधार का एक कट्टर धार्मिक नेता था. उसे एक सैन्य कमांडर से ज्यादा एक धार्मिक नेता के तौर पर लोग जानते थे. कहा जाता है कि अखुंदज़ादा ने ही इस्लामी सज़ा की शुरुआत की थी. जिसके तहत वो खुलेआम मर्डर या चोरी करने वालों को मौत की सजा सुनाता था. इसके अलावा वो फतवा जारी करता था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

four × 3 =