Saturday , November 5 2022

उत्‍पाद शुल्‍क में भारी कटौती से घट जाएंगे पेट्रोल-डीजल के दाम

नई दिल्‍ली. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने दिवाली की पूर्व संध्‍या पर देश को बड़ी खुशखबरी दी है. दरअसल, मोदी सरकार ने ऐलान किया है कल यानी 4 नवंबर 2021 से पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में रिकॉर्ड कटौती की जा रही है. वित्‍त मंत्रालय ने बताया कि पेट्रोल पर उत्‍पाद शुल्‍क में 5 रुपये और डीजल पर 10 रुपये की बड़ी राहत दी जा रही है. मंत्रालय ने कहा कि इससे खुदरा ग्राहकों को दोनों ईंधन की आसमान छूती कीमतों से बड़ी राहत मिलेगी.

दिवाली यानी 4 नवंबर 2021 की सुबह 6 बजे उत्‍पाद शुल्‍क में कटौती लागू होने के बाद दिल्‍ली में पेट्रोल की कीमतें मौजूदा 110.04 रुपये से घटकर 105.04 रुपये प्रति लीटर हो जाएंगी. वहीं, डीजल के दाम मौजूदा 98.42 रुपये से घटकर 88.42 रुपये प्रति लीटर हो जाएंगे. वित्‍त मंत्रालय ने कहा कि केंद्र सरकार ने केंद्रीय उत्‍पाद शुल्‍क में रिकॉर्ड कटौती का अहम फैसला लिया है. अब पेट्रोल और डीजल की कीमतें इसी अनुपात में कम हो जाएंगी. वहीं, ऑयल इंडस्‍ट्री से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, अप्रैल-अक्‍टूबर 2021 के दौरान हुई खपत के आधार पर उत्‍पाद शुल्‍क में कटौती से सरकार को हर महीने 8,700 करोड़ रुपये की राजस्‍व हानि होगी. इस आधार पर सरकार को एक साल में 1 लाख करोड़ रुपये की राजस्‍व हानि पड़ेगा.

केंद्र सरकार इस समय पेट्रोल पर 32.90 रुपये और डीजल पर 31.80 रुपये प्रति लीटर उत्‍पाद शुल्‍क वसूलती है. सरकार के इस फैसले के बाद पेट्रोल पर उत्‍पाद शुल्‍क घटकर 27.90 रुपये और डीजल पर 21.80 रुपये रह जाएगा. साथ ही केंद्र ने राज्य सरकारों से भी पेट्रोल-डीजल पर वैट घटाने की अपील की है ताकि आम लोगों को महंगाई से राहत मिल सके.

मोदी सरकार के मुताबिक, डीजल पर उत्‍पाद शुल्‍क घटने से किसानों को सबसे ज्यादा फायदा होगा. दरअसल, किसान रबी फसल की बुआई की तैयारी शरू करने वाले हैं. वहीं, डीजल के दाम घटने से तमाम सामनों की ढुलाई लागत घटेगी और आम उपभोक्‍ता को भी कुछ राहत मिलने की उम्‍मीद है. केंद्र सरकार ने माना है कि पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने से महंगाई बढ़ी है.
दुनियाभर में ईंधन आपूर्ति में कमी भी देखी जा रही है. इसके चलते कच्चे तेल के दामों में बढ़ोतरी आई है. मोदी सरकार के मुताबिक, सुनिश्चित किया गया है कि देश में पेट्रोल-डीजल जैसे ईंधन की कोई कमी ना हो और उसकी आपूर्ति बिना रुकावट बनी रहे. केंद्र ने कहा कि अर्थव्यवस्‍था में सुधार देखा जा रहा है और आर्थिक गतिविधियां तेज करने के लिए पेट्रोल व डीजल पर उत्‍पाद शुल्‍क घटाने का फैसला लिया है. इससे खपत को बढ़ाया जा सकेगा और महंगाई पर लगाम लगाई जा सकेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × four =