Saturday , September 3 2022

यूऐई में चुपके से बन रहे चीनी मिलिक्ट्री पोस्ट को अमेरिका ने रोकवाया


अबू धाबी :अमेरिकी खुफिया एजेंसियों को पता चला है कि संयुक्त अरब अमीरात (यूऐई) में एक पोर्ट पर चीन चुपके से एक मिलिट्री सुविधा तैयार करने में जुटा हुआ था। चूंकि यूऐई मौजूदा वक्त में मिडिल ईस्ट में अमेरिका का सबसे करीबी सहयोगी है। ऐसे में जो बाइडेन प्रशासन ने यूऐईसरकार को चेतावनी दी है कि यूऐई में चीन की उपस्थिति दोनों देशों के संबंधों को खतरों में डाल सकती है। वॉल ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट बताती है कि अमेरिकी अधिकारियों द्वारा कई दौर की बैठकों और यात्राओं के बाद निर्माण काम को रोक दिया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिकी चेतावनियों का संबंध अबू धाबी की अमीराती राजधानी के पास एक बंदरगाह के एक साइट से है। अधिकारियों की मानें तो यूऐई सरकार को पोर्ट पर चीनी सैन्य गतिविधियों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी।

हाल के सालों में मिडिल ईस्ट में अमेरिका और चीन के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ती जा रही है। अमेरिका दशकों तक इस क्षेत्र में केंद्रीय भूमिका निभा चुका है। इजरायल का गठन, सऊदी से संबंध, क्षेत्र में सैनिक जमा किए और हाल ही में अब्राहम समझौता आदि। हालांकि बीजिंग ने ट्रेड और वैक्सीन कूटनीति के जरिए इलाके में जगह बनाई है और सैन्य उपस्थिति के विस्तार में जुटा हुआ है।

हाल के सालों में चीन ने यूऐई के साथ अपने आर्थिक संबंधों को मजबूत किया है। मौजूदा वक्त में चीनयूऐई का सबसे बड़ा ट्रेड पार्टनर। बीजिंग खाड़ी के तेल का सबसे बड़ा उपभोक्ता भी है। यूऐई ने चीन की हुआवेई टेक्नोलॉजीज कंपनी के टेलिकॉम इन्फ्रास्ट्रक्चर को भी अपनाया है। हालांकि अमेरिकी अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि हुआवेई चीन सरकार के लिए जासूसी करती है लेकिन बीजिंग ने इस आरोप का खंडन किया है।

रिपोर्ट बताती है कि करीब एक साला पहले अबू धाबी से करीब 50 मील उत्तर में खलीफा बंदरगाह पर संदिग्ध चीनी गतिविधियों के संकेत दिखे थे। इसके बाद से अमेरिकी अधिकारियों ने खुफिया रिपोर्ट्स जमा करनी शुरू की। शुरुआत में बहुत ख़ास जानकारी नहीं मिल रही थी लेकिन सेटेलाइट इमेज के जरिए और अन्य इंटेल के जरिए अधिकारी इस नतीजे पर पहुंचे कि चीन बंदरगाह पर सैन्य स्थापना में जुटा हुआ है। इसके बाद अमेरिकी अधिकारियों ने यूऐई को समझाना शुरू किया और बताया कि इस साइट का मकसद मिलिट्री सेंट्रिक है। ऐसे में इस निर्माण को रोका जाना चाहिए।

मामले को लेकर यूऐई के वाशिंगटन दूतावास के प्रवक्ता ने बताया है कि यूऐई और चीन के बीच किसी सैन्य अड्डे या किसी और तरह के बेस या पोस्ट को लेकर कभी कोई वार्ता या समझौता नहीं हुई है। और न की ऐसी कोई योजना है या इरादा है। बता दें कि यूऐई अमेरिका के सबसे करीबी मध्य पूर्व सहयोगियों में से एक है, और दोनों देशों के बीच लंबे समय से व्यापार और सुरक्षा संबंध हैं। ऐसे में चीन की घुसपैठ अमेरिकी हितों के लिए खतरा बन गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

thirteen + six =