Wednesday , September 7 2022

बारिश से तबाह हुआ जन-जीवन, 172 लोगों की मौत


नई दिल्ली:तमिलनाडु में हुई मूसलाधार बारिश ने कस्बों को बर्बाद कर दिया है, गांव के गांव तबाह हो गए और पांच लोगों की मौत हो गई। इसके बाद राज्य में मरने वालों की संख्या 68 हो गई। इसके अलावा अधिकारियों ने 2 दिसंबर तक दक्षिण भारत में और बारिश होने की चेतावनी भी दी है।1 नवंबर से अब तक पांच दक्षिणी राज्यों में 172 लोगों की मौत हो चुकी है। तमिलनाडु सबसे ज्यादा मौतें दर्ज की गई हैं, इसके बाद केरल में 48, आंध्र प्रदेश में 44 और कर्नाटक में 12 लोगों की मौत हुई है। हालांकि तेलंगावा में नवंबर में बारिश से संबंधित किसी भी मौत की सूचना नहीं है। तमिलनाडु में हालात इतने खराब हैं कि लोगों को खाना स्टॉक करके रखना पड़ रहा है। लोगों के घरों में पानी भर गया है जिससे जन-जीवन मुश्किल में पड़ गया है।

बारिश ने तमिलनाडु के दक्षिणी जिलों जैसे तिरुनेलवेली, थूथुकुडी, रामनाथपुरम, पुदुकोट्टई और नागपट्टिनम में जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया। थूथुकुडी में पिछले 24 घंटों में 250 मिमी की अत्यधिक भारी वर्षा दर्ज की गई। थुथूकुडी के एक निवासी ने कहा “अत्तूर रोड पर पानी कूल्हे के लेवल तक है, जिसे अब बंद कर दिया गया है।” आंध्र प्रदेश में तिरुपति से भी भारी बारिश की सूचना है। बेंगलुरु और दक्षिणी कर्नाटक में मध्यम से भारी बारिश हुई।

शुक्रवार को, आईएमडी ने तमिलनाडु के पूरे तटीय क्षेत्र में 18 जिलों को रेड अलर्ट और तटीय क्षेत्रों से सटे जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया। राज्य के 38 में से 37 जिलों में बारिश हुई और ज्यादातर जगहों पर स्कूल और कॉलेज बंद रहे।

राज्य के राजस्व और आपदा मंत्री केकेएसएसआर रामचंद्रन ने कहा कि पांच लोगों की मौत अरियालुर, डिंडीगुल, शिवगंगा और तिरुवनम्माली से हुई है। उन्होंने कहा कि 10,503 लोगों को सरकारी राहत शिविरों में पहुंचाया गया है।

राज्य भर में, लोगों ने भोजन का स्टॉक कर लिया, लेकिन रुके हुए पानी ने आम जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया। चेन्नई के वेस्ट माम्बलम निवासी एस बालू ने कहा, “हमने अभी-अभी अपना पूरा अपार्टमेंट साफ किया है और इसमें फिर से पानी भर गया है।”

आंध्र प्रदेश के दक्षिण तटीय और रायलसीमा जिलों में कई दिनों की मूसलाधार बारिश के बाद शुक्रवार को स्थिति सामान्य हो गई। लेकिन कई क्षेत्रों से मध्यम बारिश की सूचना मिली थी और आईएमडी ने 2 दिसंबर तक इस क्षेत्र में और बारिश की भविष्यवाणी की थी।

मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने राज्य विधानसभा को बताया कि उनकी सरकार बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बिना देर किए सभी राहत और बचाव के उपाय कर रही है और लोगों के लिए शिविर बनाए जा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि 18 और 19 नवंबर को चार जिलों के 1,990 गांव बाढ़ से प्रभावित हुए थे, जिनमें से 211 गांवों में पूरी तरह से पानी भर गयी था। कम से कम 44 लोगों की मौत हो गई थी और 16 अभी भी लापता हैं। उन्होंने कहा कि 1,169 घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए और 5,434 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए।

केरल के कई हिस्सों, खासकर दक्षिणी जिलों में शुक्रवार को छिटपुट बारिश हुई। राज्य में इस साल छह दशकों में सबसे अधिक बारिश हुई – 2018 में आई बाढ़ से भी ज्यादा, जो एक सदी में आने वाली सबसे भीषण बाढ़ का कारण बना और 482 लोगों की जान ले ली। आईएमडी ने कहा कि राज्य में 25 नवंबर तक 3593.3 मिमी बारिश हुई, जो 2018 की 3518 की संख्या को पार कर गई।

बेंगलुरु में पिछले 24 घंटों में ज्यादा बारिश नहीं हुई, लेकिन कर्नाटक राज्य प्राकृतिक आपदा निगरानी केंद्र (केएसएनडीएमसी) ने कहा कि कोडागु, चिक्कमगलुरु, दक्षिण कन्नड़, उडुपी, उत्तर कन्नड़, मैसूर और मांड्या जिलों में बारिश होगी। अधिकारी ने कहा, “हालांकि, हमने आने वाले दिनों में राज्य में किसी भी भारी बारिश की भविष्यवाणी नहीं की है। हमारे मुताबिक, केवल छिटपुट, हल्की वर्षा होगी। ”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

9 − 5 =