Thursday , November 10 2022

बारबाडोसको ब्रिटेन से मिली आजादी, बना सबसे नया गणतंत्र


बारबाडोस :एक गणतंत्र में तब्दील होने के अवसर पर आयोजित समारोह की शुरुआत सोमवार देर रात में हुई जिसमें ब्रिटेन के राजकुमार चार्ल्स सहित कई नेताओं और गणमान्य व्यक्तियों ने हिस्सा लिया. इस समारोह का आयोजन उस लोकप्रिय चौक पर हुआ जहां पिछले साल एक ब्रिटिश लॉर्ड की प्रतिमा हटायी गई थी. इस मौके पर रात में जमकर आतिशबाजी की गई. पूरे द्वीप में स्क्रीन लगाई गई थी ताकि लोग उस घटना को देख सकें जिसमें कई कलाकारों के साथ एक ऑर्केस्ट्रा का आयोजन किया गया.

2 लाख 85 हजार की जनसंख्या वाला देश बारबाडोस रानी एलिजाबेथ द्वितीय के प्रति वफादारी के रस्मी संकल्प का त्याग कर मंगलवार को आधिकारिक तौर पर एक गणतंत्र देश बन गया है. इसमें 1834 तक 200 से अधिक वर्षों की गुलामी शामिल है. )
ब्रिटेन से पूरे 55 साल पहले आजादी मिलने के बाद बारबाडोस में अब गणतांत्रिक शासन लागू हो गया है. जिसके बाद 1625 में एक अंग्रेजी जहाज के किंग जेम्स I के लिए दावा करने के बाद से लागू लगभग सभी औपनिवेशिक संबंध समाप्त हो गए जो कि इसे इंग्लैंड का गुलाम बनाए हुए थे.
महारानी एलिजाबेथ के 70 साल के शासनकाल और चार्ल्स के भविष्य के राज्यभिषेक के मद्देनजर, इस कदम को अन्य पूर्व उपनिवेशों द्वारा राजशाही के साथ संबंधों को काटने के व्यापक प्रयासों के अगुआ के रूप में भी देखा जा सकता है.
कैरिबियाई द्वीप बारबाडोस को अपने खूबसूरत समुद्र तटों और क्रिकेट के प्रति अपने प्रेम जाना जाता है. अंग्रेजों ने पहली बार 1627 में द्वीप को उपनिवेश बनाया और 1961 तक इसे एक उपनिवेश के रूप में रखा. 1961 में द्वीप ने आंतरिक स्वायत्तता हासिल की. इसने 1966 में ब्रिटेन से पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त की, लेकिन अब तक क्राउन के प्रतिनिधि गवर्नर-जनरल के माध्यम से राजाओं के साथ घनिष्ठ संबंध बनाए रखा.
सैंड्रा मेसन अब बारबाडोस की गवर्नर जनरल होंगी, जिनकी नियुक्ति क्‍वीन एलिजाबेथ द्वितीय ने ही की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eight + nine =