Sunday , August 28 2022

इस दिन करें भगवान शिव की आराधना होगी शत्रुओं पर विजय

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार प्रत्येक मास में त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है. जिस दिन प्रदोष व्रत होता है, उसके साथ वह दिन जुड़ जाता है. हिन्दी पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष मास का कृष्ण पक्ष चल रहा है. मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि. ऐसे में मार्गशीर्ष के कृष्ण पक्ष का प्रदोष गुरु प्रदोष व्रत है. प्रत्येक दिन के प्रदोष व्रत का अलग फल और महत्व होता है. गुरु प्रदोष व्रत करने और उस दिन शिव आराधना करने से व्यक्ति को शत्रु पर विजय प्राप्त हो सकता है.
जो भी व्यक्ति गुरु प्रदोष व्रत रखना चाहता है, उसे उस दिन प्रदोष काल में भगवान शिव शंकर की विधि विधान से पूजा करनी चाहिए. गुरु प्रदोष के दिन भगवान शिव की पूजा का शुभ मुहूर्त सूर्यास्त से रात्रि के प्रारंभ के बीच के समय काल को प्रदोष काल माना जाता है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, जो भी व्यक्ति अपने शत्रुओं से परेशान है. उसे विशेषकर गुरु प्रदोष व्रत करना चाहिए. भगवान शिव की कृपा से उस व्यक्ति को अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है, शत्रुओं का नाश होता है.

प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव की पूजा में आपको गंगाजल, गाय का दूध और बेलपत्र का प्रयोग करना चाहिए. भगवान शिव को बेलपत्र अत्यंत ही प्रिय है. कहा जाता है कि भगवान शिव आसानी से प्रसन्न होने वाले हैं, वे तो सच्चे मन से एक लोटा जल अर्पित करने मात्र से ही प्रसन्न हो जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eight − seven =