Tuesday , November 8 2022

श्रीलंकाई अधिकारी को मारकर जलाया

सियालकोट : पाकिस्तान से एक मॉब लिंचिंग का हैरान करने वाला मामला सामने आया है. देश के सियालकोट में भीड़ ने एक श्रीलंकाई नगारिक की पहले जमकर पिटाई की और इसके बाद शख्स को जिंदा जला दिया. द डॉन की रिपोर्ट के अनुसार यह घटना सियालकोट के वजीराबाद मार्ग में हुई. बताया जा रहा है कि यहां प्राइवेट फैक्ट्रियों के श्रमिकों ने कथित तौर पर एक फैक्ट्री के मैनेजर पर हमला कर दिया. भीड़ ने मैनेजर की इतनी पिटाई की की उसकी जान चली गई. बाद में उसे आग के हवाले कर दिया.

अब इस मामले की जांच पुलिस कर रही है. घटना का शिकार हुए व्यक्ति का नाम प्रियांथा कुमारा बताया जा रहा है. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि फैक्ट्री मैनेजर पर श्रमिकों ने पैगम्बर मोहम्मद की निंदा करने का आरोप लगाया था. प्रियांथा कुमारा ने हाल ही में कुछ दिन पहले फैक्ट्री में एक्सपोर्ट मैनेजर के पद पर नौकरी ज्वाइन की थी. प्रियांथा जिस फैक्ट्री में काम करता था उसमें पाकिस्तान की टी-20 टीम का सामान बनाया जाता था. घटना के बाद पूरे इलाके को पुलिस ने सील कर दिया है.
बता दें कि मॉब लिंचिंग की यह घटना पाकिस्तान में पहली घटना नहीं है. इससे पहले 2010 में भी इस तरह का मामला आ चुका है. जानकारी के अनुसार पाकिस्तान में ईशनिंदा करने पर मृत्यु दंड देने का प्रावधान है और अक्सर इसका गलत फायदा उठाया जाता है. एक अधिकारी ने बताया कि मैनेजर ने कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान का एक पोस्टर फाड़ दिया था इस पोस्टर में कुरान की कुछ आयते लिखी हुई थीं. हाल ही में पाकिस्तान की इमरान सरकार ने इस संगठन पर से सभी तरह के प्रतिबंध हटा दिए थे.

जानकारी के अनुसार प्रियांथा ने फैक्ट्री की दिवार पर इस्लामिक पार्टी का पोस्टर देखा तो उसने उसे हटाकर फाड़ दिया और फिर कूड़ेदान में फेक दिया. प्रियांथा को ऐसा करते हुए कुछ श्रमिकों ने देख लिया और इस बात को पूरी फैक्ट्री में फैला दिया. पैगम्मबर मोहम्मद की निंदा से क्रोधित में आए श्रमिकों ने इकट्ठा होकर मैनेजर पर हमला कर दिया.
अधिकारी ने बताया कि आक्रोशित भीड़ ने मैनेजर को फैक्ट्री के अंदर से घसीटते हुए बाहर लाई और फिर जमकर पिटाई की. भीड़ ने प्रियांथा को इतना पीटा की उसकी मौत हो गई. पुलिस घटना स्थल पर पहुंचती इससे पहले भीड़ ने मैनेजर को आग के हवाले कर दिया. बताया जा रहा है कि भीड़ में अधिकांश लोग टीएलपी के समर्थक थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five + 7 =