Saturday , November 5 2022

क्या होता है जब विमान या हेलीकॉप्टर पर गिरती है बिजली?

हवाई जहाज और हेलीकॉप्टर हर तरह की उड़ान में मौसम और उससे संबंधित प्रभावों से विशेष तरह की सावधानियां बरती जाती हैं. तब तो और भी ज्यादा ऐतिहात बरती जाती है जब विमान या हेलीकॉप्टर में कोई अतिविशिष्ठ यात्री बैठे हों. लेकिन आम लोग यह नहीं जानते कि सभी विमानों और हेलीकॉप्टरों को भी मौसम से निपटने के लिए विशेष तौर से तैयार किया जाता है. इसमें बिजली का टकराव भी शामिल है. विमानों पर बिजली गिरना कोई असामान्य घटना नहीं होती है और आमतौर पर इससे विमान बच भी जाते हैं.

किसी विमान या उड़ान की नष्ट करने में मौसम और प्राकृतिक बिजली की कितनी भूमिका हो सकती है यह भी एक सवाल है. आइए जानते हैं कि बिजली गिरने का विमान या हेलीकॉप्टर पर क्या असर होता है.

मौसम में बारिश और धुंध विमानों के लिए परेशानी पैदा करने वाले कारक माने जाते हैं. लेकिन सच यह है कि दोनों से ही निपटना आज के विमानों के लिए कोई मुश्किल काम नहीं हैं. विमानों से बिजली का टकरना बहुत बार होता है लेकिन इसके बाद भी इससे हवाई हादसे होने की घटना कम ही होती है.

आंकलन करने से पता चला है कि औसतन हर अमेरिकी व्यवसायिक विमान को साल में कम से कम एक बार बिजली गिरने की घटना का सामना करना ही होता है. वास्तव में विमान ही कई बार बिजली चमकने का कारण बनते हैं जब वे बहुत ही आवेशित बादलों वाले इलाके से गुजरते हैं. ऐसे मौकों पर बिजली की चमक विमान से ही शुरू होती है और विपरीत दिशाओं में जाती है.

बिजली जब भी किसी विमान पर गिरती है या टकराती है तो वह तीखे किनारों जैसे विमान के पंख, उसके आगे की नोक, या फिर एंटीना पर लगती है. इसके बाद विद्युत तारों से विमान की पीछे स्थित पूंछ तक जाती है. इस तरह से विमान का एक बाहरी आवरण होता है जो यात्रियों सहित पूरे विमान की इससे रक्षा करता है.

बिजली का टकराव विमान के इलेक्ट्रॉनिक्स वस्तुओं को खराब कर सकता है जिसमें उड़ान भरने वाले उपकरण शामिल होते हैं. लेकिन यहीं पायलट की ट्रेनिंग काम आती है, वे सभी आधुनिक सुविधाओं के बिना भी विमान उड़ाने में सक्षम होते हैं. फिर आज के विमानों को टकराने वाली बिजली से बचाव की सुविधा भी दी जाती है.

आज के विमान बहुत से इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और ईंधन टैंक को ऐसे बनाया जाता है जिससे आवेशित बिजली का प्रवाह पैदा नहीं होता और ऐसा होने से पहले ही दो अलग सुचालकों से उन्हें इनसे अगल कर दिया जाता है. व्यवसायिक विमानों में स्थैतिक निर्वहन बत्तियां लगाई जाती हैं जो आवेश जमा कर वापस हवा में छोड़ देती हैं.

मजेदार बात यह है कि विमान में सवार यात्री बिजली की चमक और बादलों के गरजने की आवाज भी सुन सकते हैं जब बिजली विमान पर गिरती है या उससे टकराती है. लेकिन इसके बाद भी विमान को नुकसान होने की स्थिति नहीं बनती क्योंकि उसके लिए बना सुरक्षा तंत्र काम कर रहा होता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − two =