Sunday , November 6 2022

हरित ऊर्जा सुरक्षित ऊर्जा:स्वामी चिदानन्द सरस्वती

ऋषिकेश, दैनिक जीवन में ऊर्जा की आवश्यकता और इसके संरक्षण के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने देशवासियों का आह्वान करते हुये कहा कि ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के अवसर पर हम ऊर्जा संरक्षण का संकल्प ले और एक ऊर्जा कुशल जीवन-शैली अपनाकर भारत की ऊर्जा प्रणाली को बेहतर बनाने में सहयोग प्रदान करंे।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि बढ़ते जनसंख्या दबाव के कारण भविष्य में ऊर्जा की मांग और अधिक बढ़ेगी ऐसे में ऊर्जा दक्षता कार्यक्रमों के माध्यम से ऊर्जा के सकारात्मक उपयोग के साथ जनमानस के व्यवहार और सोच को बदलना अत्यंत आवश्यक है।
ऊर्जा संरक्षण से तात्पर्य ऊर्जा के अनावश्यक उपयोग से बचना तथा जितना हो सके कम से कम ऊर्जा का उपयोग करना और प्राकृतिक जीवन शौली अपनाना ताकि भविष्य में आने वाली पीढ़ियों के लिए ऊर्जा स्रोतों को बचाया जा सके। भारत सरकार द्वारा बनायी गयी ऊर्जा संरक्षण योजनाओं को अधिक प्रभावी बनाने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को अपने व्यवहार में ऊर्जा संरक्षण को शामिल करना होगा। हरित और पर्यावरण अनुकुल जीवन शैली को अपनाना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 − twelve =