Monday , November 7 2022

डालता था यूज्ड कंडोम मंदिरों के दानपेटी में

बेंगलुरु: कर्नाटक पुलिसने एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया है, जो मंदिरों के डोनेशन बॉक्स में इस्तेमाल किए गए कंडोम डालता था. आरोपी देवदास देसाई ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि वो यीशु का संदेश फैलाने के लिए ऐसा कर रहा था और उसे इसका कोई अफसोस नहीं है. पुलिस करीब एक साल से उसकी तलाश कर रही थी. देसाई मंदिर परिसर और वहां लगी दानपेटी में इस्तेमाल किए गए कंडोम डालकर चला जाता था.
पुलिस ने बताया कि 62 वर्षीय आरोपी देवदास देसाई मंगलुरु के कई मंदिरों में ऐसा कर चुका है. काफी लंबे समय से उसकी तलाश चल रही थी, लेकिन वो हर बार भाग निकलने में कामयाब हो जाता था. पिछले साल 27 दिसंबर को कोरज्जाना कट्टे गांव के एक मंदिर की दान पेटी में इस्तेमाल किया गया कंडोम मिलने की बात सामने आई थी. इसी के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया.

घटना की सूचना के बाद पुलिस ने मंदिर और आसपास लगे कैमरों की जांच की. जब अधिकारियों ने CCTV फुटेज खंगाले तो उसमें आरोपी का चेहरा नजर आ गया, जिसके आधार पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ में देवदास देसाई ने स्वीकार किया कि वो इस तरह कई मंदिरों को अपवित्र कर चुका है. आरोपी ने बताया कि उसने कुल 18 मंदिरों में ये हरकत की है. हालांकि, इसमें से केवल पांच मंदिरों की तरफ से ही पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई थी.

मंगलुरु के पुलिस आयुक्त एन शशिकुमार ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज की मदद से पुलिस टीम आरोपी को पकड़ने में कामयाब रही. देवदास देसाई अपनी पत्नी और बच्चों को काफी पहले ही छोड़ चुका है. वो ऑटो ड्राइवर के तौर पर काम करता था, लेकिन बढ़ती उम्र के चलते उसने ड्राइविंग छोड़कर प्लास्टिक बीनने का काम शुरू कर दिया. आरोपी ने बताया कि उसके पिता के समय से ही परिवार इसाई धर्म का पालन करता आ रहा है.
कमिश्नर शशिकुमार के मुताबिक, आरोपी ने बताया कि वो मंदिरों में इस्तेमाल किए कंडोम इसलिए फेंकता था, ताकि उन्हें अपवित्र करके लोगों को अपने धर्म की तरफ मोड़ सके. केवल मंदिर ही नहीं, आरोपी ने कुछ गुरुद्वारों और मस्जिदों में ऐसा किया था. पूछताछ में आरोपी ने कहा कि उसे अपने किए पर कोई पछतावा नहीं है, वो केवल यीशु के संदेश का प्रसार कर रहा था. आरोपी ने यह भी कहा कि बाइबल कहती है कि यीशु के अलावा और कोई ईश्वर नहीं है. मैं कंडोम इसलिए फेंकता था, क्योंकि अशुद्ध चीजों को अपवित्र स्थानों पर ही फेंकना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × four =