Monday , August 29 2022

पहली बार बना ब्लैक होल कानक्शा

नई दिल्ली: एस्ट्रोनॉमर्स ने ब्लैक होल्स का एक ऐसा डिटेल्ड मैप पब्लिश किया है जो अभी तक का सबसे सटीक मैप है. ये मैप लीडेन यूनिवर्सिटी के ताजा परीक्षण में सामने आया है. यह विज्ञान के क्षेत्र में एक बड़ा कदम है और भविष्य की संभावनाओं के लिए आगे बढ़ने वाला कदम है.
ये मैप एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स जर्नल में पब्लिश हुआ है. यह अब तक का सबसे डिटेल्ड मैप है जिसे लो रेडियो फ्रिक्वेंसी मैप भी कहा जा रहा है.

ये रिजल्ट कई सालों की मेहनत के बाद आया है जिसमें बहुत ही कठिन डेटा पर काम किया है. रिसर्चर ने बताया कि इसमें ऐसी तकनीक अपनाई गई है जिसमें रेडियो सिग्नल की मदद से आसमान की इमेज ली गई है. इस काम के लिए 9 यूरोपीय देशों में 52 स्टेशन पर लो फ्रिक्वेंसी ऐरे एंटीना लगाए गए थे.

इसमें तीन कैटेगरी के ब्लैक होल्स हैं. सबसे छोटे ब्लैक होल वह हैं जो एक अकेले तारे के नष्ट होने से बनते हैं. हमारी आकाशगंगा के केंद्र की तरह विशाल ‘सुपरमैसिव’ ब्लैक होल हैं जो पृथ्वी से 26,000 प्रकाश वर्ष दूर हैं, जो सूर्य के द्रव्यमान का चार मिलियन गुना है. कुछ मध्यवर्ती-द्रव्यमान वाले ब्लैक होल भी बीच में कहीं द्रव्यमान के साथ पाए गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

one × four =