Friday , September 2 2022

ब्रिटेन के खिलाफ मॉरीशस ने ठोका दावा

ब्रिटेन के विदेश कार्यालय ने वर्तमान अभियान दल के बारे में टिप्पणी के अनुरोधों का तुरंत जवाब नहीं दिया. अपने बयान में, जगन्नाथ ने इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस के फैसले का उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘ब्रिटेन द्वारा चागोस द्वीपसमूह का निरंतर प्रशासन एक गलत कार्य है.’ उनके कार्यालय ने आगे की टिप्पणी को लेकर भेजे गये ईमेल का तुरंत जवाब नहीं दिया है.

अमेरिकी सैन्य अड्डे पर नहीं होगा कोई असर
जगन्नाथ ने बार-बार कहा है कि ब्रिटिश प्रशासन के हटने से डिएगो गार्शिया में अमेरिकी सैन्य अड्डे पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. उन्होंने कहा कि मॉरीशस इस सैन्य अड्डे को बरकरार रखने के लिए प्रतिबद्ध है.

मॉरीशस का ‘ब्लेउ डे नीम्स’ नामक पोत मंगलवार को सेशेल्स से हिंद महासागर में मालदीव से लगभग 500 किलोमीटर (310 मील) दक्षिण में स्थित चागोस द्वीपसमूह के लिए रवाना हुआ.

इस 15-दिवसीय यात्रा के लिए पोत पर संयुक्त राष्ट्र में मॉरीशस के स्थायी प्रतिनिधि के अलावा कानूनी सलाहकार और अन्य लोग हैं, जिन्होंने द्वीपसमूह के उत्तरपूर्वी हिस्से में आंशिक रूप से जलमग्न प्रवालद्वीप ‘ब्लेनहेम रीफ’ में एक वैज्ञानिक सर्वेक्षण करने की योजना बनाई है.
जगन्नाथ ने अपने बयान में कहा है कि वह मौजूदा समुद्री यात्रा पर प्रतिनिधिमंडल में शामिल नहीं होंगे, बल्कि अलग से निजी यात्रा करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

three × two =